Design a site like this with WordPress.com
Get started

चाहत तो यही थी.. #bhaskar95 #bhaskars_poerty #poetry

चाहत तो यही थी…
चाहत तो यही है कि तुमसे सबकुछ कह जाए
दिल में जो भी हैं तुमसे कहे और वही रह जाए
पर डर इस बात का लगता है कि
हम दोनों के दरमियाँ ये जो दोस्ती का रिश्ता है
उसमे कोई खटास ना आए
इस वास्ते हम तुमसे कुछ कह ना पाए
चाहत तो यही थी कि….

ये क्या बात हुई… #bhaskar95 #bhaskars_poerty #poetry

जो तुम यू रूठ जाते हो
गलती तुम्हारी और मनाने हमे बुलाते हो
पर चलो कोई बात नहीं हमे भी खुशी मिलती है अपने रूठे यार को मनाने में…
पर ये भी जान लो रूठने का हक सिर्फ तुम्हारा ही नहीं हमारा भी है मनाने का हक सिर्फ मेरा ही नहीं तुम्हारा भी है…
चलो कोई बात नहीं ये रूठने मनाने का सिलसिला तो उम्र भर चलेगा…
ये साँस जब तक चलेगी तू मेरा ही रहेगा…
तो ये रूठने और मनाने की बात तो यही खत्म हो जाती है…
तू मेरा और मैं तेरा और ये रात यू ही गुजर जाती है…
तेरा रूठना और मेरा मानना फिर अगले जन्म चलेगा..
तू मेरी और मैं तेरा ये हर जन्म यही चलेगा …
मैंने उस उपर वाले से ये डील की हुई है कि तुझे मनाने का हक सिर्फ मेरा और ये सिलसिला यू ही चलता रहेगा..
की फिर तेरा यू रूठना यू ही चलता रहेगा….

तुम्हारी चुप्पी #bhaskars_poetry

तुम्हारी चुप्पी का मैं क्या करूं तुम्हारी ये चुप्पी बिना कुछ बोले ही हजारी सवाल कर जाती है

– Bhaskar

ये अजीब मोहब्बत… #bhaskar95 #bhaskars_poerty #love #poetry

कभी कभी ओ ऐसी बाते कह जाती है
जिसे समझने मे हमे वक़्त लगता है
लेकिन जब ओ बाते वक़्त बेवक्त समझ में आती है
तो उन्हें उनसे कहने में वक़्त लगता है
अजीब है ना ऐसे किसी इंसान के साथ जिंदगी गुजरना
जिंदगी तो छोड़ों यार वक़्त गुजरना भी मुस्किल होता है
पर ओ जो मेरा है उसने मुझसे कभी शिकायत नहीं की
बस ऐसी ही खूबियां है उसमे जिन्हें मैं शब्दों से बया नहीं कर सकता.
ये अजीब मोहब्बत…

उसे देखे बिना… #bhaskar95 #bhaskars_poerty #poetry

उसे देखे बिना एक पल नहीं गुजरता था
एक दिन की बात छोड़ों
उसके बिना दिन और रात कैसे गुज़रते है
कोई इस पागल दिल से पूछो…

कम नहीं होता #bhaskars_poetry #poetry

हैं अब ये दर्द
बहुत किया इन्तेज़ार तुम्हारा
लौट आओ ना प्लीज़
अब ये दर्द कम नहीं होता…