हर पन्ने पर ख्वाब लिखा है, मेरे उन्हें पढ़ कर तो देखोवो पन्ने है मेरे सपनों केउन्हें पलट कर तो देखोशायद वो सपने तुम्हें अपने लगेउन्हें समझ कर तो देखोसपने लिखे है पन्नों परउन्हें पलट कर तो देखो…मेरे उन्हें पढ़ कर तो देखोवो पन्ने है मेरे सपनों केउन्हें पलट कर तो देखोशायद वो सपने तुम्हें अपने लगेउन्हें समझ कर तो देखोसपने लिखे है पन्नों परउन्हें पलट कर तो देखो…

जा रहे हो मुझे छोड़ कर तो एक बार मुड़कर मुझे देखते जाओयूँ जो तुम भूल गए हों मुझकोये भूलने का हुनर मुझको भी सिखाते जाओजा ही रहे हो मुझसे दूर तो, वो सारी बातेसारी यादे तो मिटाते जाओग़र मिलना कहीं किसी राह पर तोनजरे ना मिलाना हमसेअब जब जा ही रहे हो मुझसे दूर तोसारी यादे मिटाते जाओ…

आज काफी दिनों बाद बात हुई उनसे मेरीअच्छे मूड़ मे थी शायद वो जो उनके बातों से महसूस हुआ मुझेकाफी देर तक बाते हुई हमारीफिर अचानक से उन्होंने हम से पूछ लियाकी क्या तुमको हमारी याद नहीं आतीअब उनसे कैसे कहू की हर वक़्त हर घड़ीइस दिल में खयाल उनका ही रहता हैफिर कुछ बाते इधर उधर की हुई और जाते वक़्तकुछ ऐसा कहा उन्होंने की मन किया कि उन्हें जाने ना दूँ रोक दु इस पल कोउनके वो शब्द, सुनो अपना खयाल रखनाये बोल वो चली गई और ऐसा लगता है मैं अभी भी वही उसी पल मे जी रहा हूँ…

मुझसे पूछ तो लेते, ग़र कोई बात मन में थी तोयूँ मुझे छोड़ कर जाने कीकोई वजह तो होगी ना…ग़र कोई बात मन में थी तोयूँ मुझे छोड़ कर जाने कीकोई वजह तो होगी ना…

Create your website with WordPress.com
Get started